Teachers Day Speech In Hindi For Students

teachers day speech in hindi

  teachers day speech in hindi – शिक्षक दिवस पर हिंदी  भाषण

आज के लेख के माध्यम से हम सीखेंगे शिक्षक दिवस पर हिंदी भाषण 2021 जो सभी वर्ग 4 , 5 , 6 , 7 , 8 …. के लिए परीक्षा के दृषिटकोण से काफी लाभप्रद होने वाली है | तो आइये बिना समय बर्बाद किये सीखते है शिक्षक दिवस पर हिंदी भाषण 2021 …..

  teachers day speech in hindi – शिक्षक दिवस पर हिंदी भाषण

भारत के भूतपूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म 5 सितम्बर को हुआ था | इन महापुरष के जन्म पर ही आज पुरे  भारत वर्ष  में शिक्षक दिवस 5 सितम्बर को बड़े ही आदर और सत्कार के साथ मनाया जाता है | हमारे पूर्व राष्ट्रपति राधाकृष्णन की अपने छात्रों से अभिलाषा थी के उनके जन्म दिन को ही शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाय |

उनका बचपन से ही किताबें पढ़ने में अत्यधिक रूचि रही थी | वे भारतीय संस्कृति के प्रख्यात  शिक्षाविद , महान दार्शनिक और विचारक थे | आगे चलकर देश के वे प्रथम उप – राष्ट्रपति और इसके साथ भारत के  दूसरे राष्ट्रपति भी बने | उनकी इसी महान विचारधार तथा सच्ची देश सेवा से प्रेरित होकर उन्हें भारत सरकार के द्वारा सन 1954 ईo को सर्वोच्च भारतीय सम्मान “ भारत रत्न ” से अलंकृत किया गया था |

teachers day speech in hindi

  teachers day speech in hindi – शिक्षक दिवस पर हिंदी  भाषण

इस महान विचारक के जन्म पर ही शिक्षक दिवस को भारत वर्ष में सन 1962 ईo से आदर के साथ मनाने की शुरुआत की गयी थी | आज हम पुरे देश में इस दिन शिक्षक दिवस के समारोह को आदर के साथ मनाते है और ऐसे महान शिक्षक को नमन करते है और उन्हें स्मरण कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते है | 

इस दिन सभी छात्र – छात्राएँ मिलकर अपने शिक्षकगणों के लिए उपहार और भेंट लेकर जाते है और उनसे आशीर्वाद प्राप्त करते है | इस दिन कई सारे बच्चे ऐसी भी होते है जो अपनी चित्राकल से डॉ. सर्वपल्ली राधकृष्णन की पेंटिंग करते है और उन्हें अपने शिक्षक को उपहार के रूप में भेंट करते है तथा शिक्षक दिवस को मनाते है |

teachers day speech in hindi – शिक्षक दिवस पर हिंदी भाषण ( 300 – 400 शब्दों में ) –

सभा में उपस्थित हमारे प्रिय सहपाठी तथा हमारे प्रिय शिक्षक गण और दूरस्थ्य से आये हुए अतिथिगण आप सभी का शिक्षक दिवस पर आपका हार्दिक स्वागत !

आज हम सभी यहाँ शिक्षक दिवस के उपलक्ष्य में एकत्रित हुए है और मुझे आपलोग के सामने शिक्षक दिवस पर कुछ बाते रखने का अवसर प्राप्त हुआ इसके लिए मै अपने शिक्षकगण तथा मेरे अभिवावकगण का शुक्रिया अदा  करना चाहूंगा |

आज के दिन 5 दिसम्बर को हमारे भूतपूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म हुआ था जिसके जन्मदिवस को ही हमलोग शिक्षक दिवस के रूप में मनाते आ रहे है | हमारे माननिय भूतपूर्व राष्ट्रपति की अंतिम इक्षा थी के उनके जन्म को ही शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाय | वे हमारे देश के प्रथम उपराष्ट्रपति चुने गए थे तथा कुछ समय के उपरांत उन्हें देश के द्वितीय राष्ट्रपति के रूप में कार्यभाल सँभालने का मौका मिला था |

उनकी महान विचारधारा तथा सच्ची देशभक्ति के भावना से प्रेरित होकर भारत सरकार ने उन्हें भारतीय सर्वोच्च सम्मान ” भारत रत्न ” से अलंकृत किया था | आज के दिन हम सभी लोग उनकी आत्मा के लिए भगवन से प्रार्थना करेंगे और उन्हें सम्मान  अर्पित करेंगे |

शिक्षा के क्षेत्र में उनके 40 वर्षीय योगदान को भुलाया नहीं जा सकता है | उन्होंने शिक्षा के आधार पर समाज को सुधरने का भी प्रयत्न किया था | शिक्षक दिवस को हमलोग  ” टीचर्स डे  ” के रूप में भी मनाते है | हम सभी क्षात्र उन्हें बड़े ही तन्मयता से स्मरण करते है और उन्हें नमन करते है |

शिक्षक दिवस एक उत्सव या समारोह का दिन ही मात्रा नहीं होता बल्कि इस दिन सभी क्षात्र अपने – अपने अध्यापक से अपने सपनो तथा अपनी महत्वकांक्षाओ को भी एक दूसरे के साथ साझा करते है तथा साथ मिलकर एक रानीति भी तैयार करने में लग जाते है की अपने सपनो तक कैसे पंहुचा जाए |

शिक्षक दिवस बच्चो में एक आत्मविश्वास पैदा करने का भी काम करता है और यह सुनश्चित भी करता है के शिक्षा मनुष्य के जीवन को कैसे बदल देता है , कैसे इंसान आम जीवन को त्यागकर एक उत्कृष्ट मानव बन जाता है इन सभी तथ्यों को समझने व उनपर अमल करने का अवसर भी प्रदान करता है शिक्षक दिवस |

 इन्ही बातो के साथ मै  अपनी शिक्षक दिवस के इस भाषण को विराम देता हूँ | धन्यवाद !

 

teachers day speech in hindi – शिक्षक दिवस पर हिंदी भाषण ( 200 – 250 शब्दों में ) —

 

मै यहाँ उपस्थित सभी साथी , शिक्षकों तथा अभिभावकों को नमस्कार अर्पति करता हुआ !

आज हमलोग यहाँ शिक्षक दिवस के समारोह पर उपस्थित हुए है | शिक्षक दिवस प्रतियेक वर्ष 5 सितम्बर को आज ही के दिन मनाया जाता है | यह दिन छात्रों के साथ – साथ शिक्षकों के लिए काफी उत्साहवर्धक होता है | इस दिन सभी छात्र – शिक्षक व अभिभावक सभी खुश  दिखाई देते है |

सभी लोग अपने – अपने दोस्तों के साथ घुलते – मिलते है और अपने लक्ष्यों को एक दूसरे के साथ साझा करते है तथा स्वयं को और मजबूत बनाते है | सभी अभिवावक भी अपने बच्चो के साथ समय बिताते है तथा उनके लक्ष्यों के बारे में खास तौर पर बात – चित करते है तथा एक योजना का भी क्रियान्वयन करते है |

इस दिन अभिभावक भी अपने – अपने बच्चो के साथ शिक्षक के साथ वार्ता के लिए समय निकलते है तथा एक आँकड़ा जुटते है उनके बच्चे अपने लक्ष्य के प्रति किस हद तक स्वयं तैयार कर पार रहे है आदि कई विषयो पर चर्चा करते है और एक योजना बनाते है |

शिक्षक दिवस बच्चो में एक सकारात्मक ऊर्जा का आह्वान भी करता है तथा इस दिन शिक्षक  और छात्र के बिच का रिश्ता भी और गहराता जाता है | क्योंकि इस दिन शिक्षक के द्वारा बच्चो को भावनात्मक तरीके से व्यव्हार किया जाता है और उन्हें स्वयं में देखने का अवसर शिक्षकों के द्वारा मुहैया कराया जाता है |

इस दिन बिभिन्न विषयो के बच्चो में भी अपनी जिज्ञाषाओ को उभार कर दोस्तों के साथ साझा करने का अवसर प्राप्त होता है| महान कवी कबीर दास ने शिक्षको की तुलना भगवान् से की है उन्होंने कहा के एक छात्र को भगवान् के बजाय शिक्षक को पहले चरण स्पर्श करना चाहिए उनके कहने का आशय ये है के शिक्षक उस दीपक की भाँती है जो कितनी ही भयानक अँधेरा क्यों ना हो उस पर विजय प्राप्त कर ही लेता है |

माता – पिता अपने संतान की उत्पत्ति करते है परन्तु उसमे बुद्धि का विकास एक शिक्षक के मार्गदर्शन से ही संभव हो पाटा है | शिक्षक का स्थान माता – पिता के स्थान से भी ऊपर होता है | शिक्षक एक इंसान को इतना गुणवान बना देता है के वह जीवन की कई साड़ी उपलब्धियों को प्राप्त कर पाने में सक्षम हो जाता है |

इसलिए हमे हमारे शिक्षक की हमेश आदर और सम्मान करनी चाहिए क्योंकि आज हमारी सफलता का कारण माता – पिता के साथ – साथ एक शिक्षक भी होता है  | शिक्षक दिवस के इस स्वर्णिम अवसर पर मेरी तरफ से हार्दिक बधाई , धन्यवाद !

इस भाषण को प्यार देने के लिए शुक्रिया !
और अधिक पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे >>>

teachers day speech in hindi – शिक्षक दिवस पर हिंदी  भाषण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *